Monday, September 26, 2011

Parmatm Prakash Bharill: ना भ्रमित हो कोलाहलों में ,इनमें नहीं लय,ताल,स्वर

Parmatm Prakash Bharill: ना भ्रमित हो कोलाहलों में ,इनमें नहीं लय,ताल,स्वर: ना भ्रमित हो कोलाहलों में ,इनमें नहीं लय,ताल,स्वर जो इनकी लय पर मर मिटेंगे , बे मूल से मिट जायेंगे

No comments:

Post a Comment